कोरोना कालखंड की युवा अभिव्यक्ति के लिए इस साल शब्द बीज सम्मान

सृजन के क्षेत्र में सर्वाधिक प्रतिष्ठित अमर उजाला शब्द सम्मान- 2020 के प्रस्ताव 15 नवंबर तक आमंत्रित किए गए हैं। आकाशदीप, छाप, थाप और भाषा-बंधु सम्मानों के साथ अमर उजाला फाउंडेशन ने अप्रत्याशित कोरोना-कालखंड में उपजी युवा सृजनात्मकता को भी रेखांकित करने का फैसला किया है। इस कालखंड में किसी भी रूप या विधा में युवा अभिव्यक्ति के लिए विशेष शब्द-बीज सम्मान श्रेणी भी जोड़ी गई है।

यह अभिव्यक्ति हिंदी में रचना, ब्लॉग, फोटो ब्लॉग, ऑडियो- वीडियो, प्रयोगधर्मी वेबसाइट-प्रिंट अथवा डिजिटल किसी भी रूप में हो सकती है। सर्वोच्च अलंकरण आकाशदीप जहां समग्र अवदान, अनवरत रचनाधर्मित और मानवीय मूल्यों के संवर्धन में श्रेष्ठतम भूमिका के सम्मान में अर्पित किया जाता है। वहीं छाप, थाप व भाषा-बंधु सम्मानों के लिए 2019 में प्रकाशित श्रेष्ठ कृतियों को विचारार्थ लिया जाएगा।

अमर उजाला फाउंडेशन की ओर से प्रतिवर्ष साहित्य में सर्वोच्च सम्मान-आकाशदीप, हिंदी भाषा और अन्य भारतीय भाषा के सर्जक को समग्र अवदान के लिए पांच-पांच लाख रुपये की सम्मान राशि के साथ प्रदान किया जाता है। डॉ. नामवर सिंह को हिंदी और गिरीश कारनाड को हिंदीतर भारतीय भाषा कन्नड़ के लिए प्रथम आकाशदीप अर्पित किया गया था। अगली कड़ी में हिंदी के लिए ज्ञानरंजन और हिंदीतर भारतीय भाषा (मराठी) के लिए भालचंद्र नेमाड़े सम्मानित हुए।

इसके साथ ही वर्ष श्रेष्ठ कृतियों के लिए पांच अन्य सम्मान दिए जाते हैं। सम्मान में नकद राशि के साथ प्रशस्ति पत्र व प्रतीक चिह्न गंगा-प्रतिमा भेंट की जाती है। एक अलंकरण (थाप) हिंदी में पहली कृति के लिए तीन अलंकरण (छाप) कथा, कविता व गैर- कथा श्रेणियों में वर्ष की श्रेष्ठ कृतियों को समर्पित हैं।

विशेष अलंकरण (भाषा बंधु) के तहत एक भारतीय भाषा से किसी भी अन्य भारतीय भाषा में अनुवाद के लिए है। सभी सम्मान एक-एक लाख रुपये की राशि के साथ प्रदान किए जाते हैं। पहला सम्मान समारोह दिल्ली मेेेेेें पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी व दूसरा मुंबई में कवि- फिल्मकार गुलजार के सान्निध्य मेें संपन्न हुआ था।

15 नवंबर तक भेज सकते हैं प्रस्ताव और अनुशंसाएं

कोई भी भारतीय नागरिक, लेखक, प्रकाशक या पाठक प्रस्ताव या अनुशंसाएं भेज सकता है। अंतिम निर्णय अमर उजाला फाउंडेशन द्वारा गठित सर्वोच्च निर्णायक मंडल द्वारा किया जाएगा। श्रेष्ठ कृतियों की प्रकाशन अवधि वर्ष- 2019 है। प्रस्ताव निर्धारित प्रपत्र के साथ- संयोजक, अमर उजाला शब्द सम्मान, अमर उजाला फाउंडेशन, सी- 21/22, सेक्टर- 59, नोएडा- 201301 के पते पर, 15 नवंबर, 2020 तक पहुंच जाने चाहिए। कवर पर स्पष्ट रूप से अंकित करें कि प्रस्ताव किस श्रेणी के लिए है। प्रपत्र https://shabdsamman.amarujala.com/ से डाउनलोड किए जा सकते हैं।

Share:

Related Articles: