श्रावस्ती के भिखारीपुर मसढ़ी गांव की रूबी आज बीए की पढ़ाई कर रही है और एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ा भी रही है। उसने जिस साल दसवीं पास की उसी साल उसके पिता और भाभी का देहांत हो गया। रूबी ने भी हौसला हारते हुए मान लिया कि अब आगे की पढ़ाई बंद। लेकिन स्कूल के प्रिंसिपल, मां और भाई ने समझाया कि सुख और दुख तो जिंदगी के जुड़े हुए पहलू हैं। दोनों को हंस कर सहते हुए आगे बढ़ना चाहिए। स्मार्ट बेटियां अभियान से जुड़ी इंटरनेट साथी रेखा ने रूबी और उसके परिवार वालों से मिलकर यह वीडियो कथा बनाई है।

Share:

Related Articles: