‘पुलिस की पाठशाला’ में शिक्षक की भूमिका में दिखे सीओ ओपी सिंह।
इलाहाबाद। रानी रेवती देवी सरस्वती विद्या निकेतन इंटर कॉलेज के छात्रों के लिए शनिवार का दिन अहम रहा। आमजन के बीच पुलिस की छवि भले ही भय वाली हो, सीओ जीआरपी ओपी सिंह शिक्षक की भूमिका में नजर आए। उन्होंने छात्रों को सामाजिक दायित्व का बोध कराने के साथ ही आश्वस्त किया कि पुलिस से डरने की आवश्यकता नहीं है। पुलिस उनकी मदद के लिए ही है। ‘अमर उजाला फाउंडेशन’ की ओर से रानी रेवती देवी सरस्वती विद्या निकेतन इंटर कॉलेज में आयोजित ‘पुलिस की पाठशाला’ में उन्होंने विद्यार्थियों को बचपन से ही नियमों के पालन की सीख दी। कहा, ऐसा करके विद्यार्थी समाज को सही राह दिखा सकते हैं। यातायात के नियमों के पालन की सीख देते हुए कहा, विद्यार्थी समाज में रोल मॉडल की भूमिका निभाएं। कानून तोड़ने वाले को पहले समझाएं, नहीं मानने की स्थिति में 100 नंबर डायल करके पुलिस को सूचना दें। यदि उन्हें समाज में कहीं भी कुछ गलत दिखाई पड़ता है तो इसकी सूचना तत्काल पुलिस को दें।
 
वर्तमान दौर में पुलिस की भूमिका बढ़ गई है। पुलिस को शादी-विवाह से लेकर अंतिम संस्कार कराने तक की जिम्मेदारी निभानी पड़ती है। ऐसे में सीमित पुलिस बल के जरिए हर जगह मदद को पहुंचना संभव नहीं है सो लोगों को भी खुद आगे आना होगा। अब से छह महीने पहले जिले की ट्रैफिक व्यवस्था ऐसी थी कि हर कोई जल्दी में रहता था, चौराहे पर हड़बड़ी में एक दूसरे से उलझकर राहगीर घंटों जाम में फंसे रहते थे, चौराहों पर यातायात सिगनल के पालन से काफी हद तक जाम की समस्या से निजात मिली है।
 
कॉलेज के प्रधानाचार्य आत्मानंद सिंह ने बच्चों को कानून पालन की सीख देने सहित पुलिस की पाठशाला’में सीखी बातों को जीवन में उतारने और जिंदगी की बेहतरी के लिए नियमों का पालन करने की सीख दी। कार्यक्रम की जानकारी सहित अतिथियों का स्वागत और धन्यवाद ज्ञापन वरिष्ठ शिक्षक अजय कुमार दुबे नेे किया। विद्यार्थियों को दी नियमों की सीख, कराया सामाजिक दायित्व का बोध
Share:

Related Articles: