इलाहाबाद के राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में हुई पुलिस की पाठशाला।

इलाहाबाद। राजकीय बालिका इंटर कॉलेज (जीजीआईसी) की छात्राओं के लिए शुक्रवार का दिन विशेष रहा। जन-मानस में भय का पर्याय मानी जाने वाली पुलिस की एक अधिकारी सीओ ट्रैफिक अल्का भटनागर छात्राओं के बीच बड़ी बहन बनकर उनकी समस्याओं की जानकारी ले उनके निवारण की बात कही। उन्होंने छात्राओं से कहा कि पुलिस से डरने की आवश्यकता नहीं है, पुलिस उनकी मदद के लिए है।

‘अमर उजाला फाउंडेशन’ की ओर से शहर के राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में आयोजित ‘पुलिस की पाठशाला’ में सीओ ट्रैफिक ने छात्राओं से कहा कि घर, स्कूल, सड़क चलते, बस एवं ऑटो में यात्रा करते समय यदि उनके साथ किसी प्रकार की छेड़खानी अथवा अश्लील हरकत होती है तो इसका डटकर विरोध करें। इसकी जानकारी पुलिस अपने टीचर एवं अभिभावकों को दें। विरोध करने पर आगे से उनके साथ अत्याचार करने की कोशिश नहीं होगी।

क्षेत्राधिकारी यातायात अल्का भटनागर ने छात्राओं के बीच एकदम से घुल मिलकर कहा कि वह ट्रैफिक के नियमों का पालन करें, यदि कोई नियमों का पालन नहीं करता है तो पहले उसे आगाह करें, नहीं मानने पर इसकी शिकायत पुलिस तक पहुंचाएं। इस बात की शिकायत पुलिस को 100 नंबर डायल करके दें। उन्होंने कहा कि अपने घर में भाई एवं बड़ों को यह बताएं कि बिना कारण हार्न न बजाएं, हेलमेट के बिना दो पहिया वाहन न चलाएं। कार चलाते समय सीट बेल्ट अवश्य बांधें। सीओ ट्रैफिक ने छात्राओं को यातायात के चिह्नों की जानकारी देने के साथ चौराहों पर लगे रेड-ग्रीन सिग्नल के पालन की बात कही। उन्होंने छात्राओं को सलाह दी कि यदि आपके सामने कुछ गलत हो रहा है तो उसे रोकें।
 
पुलिस का सहयोग भी कानून का अनुपालन करना है। उन्होंने कहा कि लोग पढ़े-लिखे हैं, इसलिए कानून व्यवस्था के पालन में उनका पुलिस को अधिक सहयोग मिल रहा है। उन्होंने छात्राओं से 1090 हेल्प लाइन के उपयोग की बात कही। उन्होंने स्कूल की प्रधानाचार्या से कहा कि पावर ऐंजेल्स को भी सक्रिय करें। भविष्य में इनकी समाज को जरूरत है। उन्होंने छात्राओं को अपना मोबाइल नंबर देते हुए कहा कि किसी परेशानी की स्थिति में तत्काल उन्हें जानकारी दें। उन्होंने अमर उजाला की ओर से आयोजित पुलिस की पाठशाला कार्यक्रम को छात्राओं के लिए उपयोगी बताते हुए इसको समाज के बीच ले जाने की बात कही। उनके साथ मौजूद यातायात निरीक्षक (टीआई) नरेश सिंह यादव ने छात्राओं को यातायात के नियमों के पालन की सीख देने के साथ यातायात सिंबल की जानकारी दी। स्कूल की प्रधानाचार्या शशिबाला चौधरी ने कहा कि अमर उजाला की ओर से आयोजित पुलिस की पाठशाला में छात्राओं को पुलिस की भूमिका के बारे में जो जानकारी मिली, वह उन्हें पूरे जीवन काम आएगी। उन्होंने कहा कि इस दौरान कुछ छात्राओं ने अपनी समस्याएं साझा करने की कोशिश की, आगे उनकी समस्याओं की जानकारी लेकर काउंसलिंग करके उनके निदान की व्यवस्था की जाएगी।
 
पुलिस की पाठशाला के दौरान जीजीआईसी की छात्राओं ने सीओ ट्रैफिक से खूब सवाल किए। जीजीआईसी की छात्रा शिक्षा ने सीओ ट्रैफिक से अपनी समस्या साझा करते हुए पूछा कि यदि कोई उनके साथ दुर्व्यवहार करता है तो क्या करें, 100 नंबर पर डायल करने पर कोई रिस्पांस नहीं मिलता तो आगे क्या करें। सीओ ट्रैफिक ने प्रिंसपल से इस छात्रा की काउंसलिंग की बात कही। छात्रा शालिनी शर्मा ने कहा कि बस में गेट पर लड़के खड़े रहते हैं, वे हटते ही नहीं, इस पर सीओ ट्रैफिक से कहा कि बस वाले की शिकायत करें, उस पर जुर्माना लगेगा। छात्रा सेफाली यादव ने कहा कि पुलिस घटना होते देखती रहती है, कुछ करती नहीं। इस पर सीओ ट्रैफिक ने कहा कि इसकी शिकायत अधिकारियों से करें। सीओ से अपनी समस्या साझा करने वाली छात्राओं में श्रेया, मानसी साहू, स्वाति श्रीवास्तव सहित कई अन्य शामिल रहीं।
 
इस दौरान यातायात पुलिस ने जीजीआईसी की छात्राओं के बीच यातायात माह के दौरान पंफलेट, बुकलेट, ग्लोसाइन के जरिए यातायात के नियमों की जानकारी दी। 
Share:

Related Articles: