नोएडा के सेक्टर-48, सी-ब्लॉक स्थित फाउंडेशन स्टेप स्कूल में आयोजित बाल फिल्म महोत्सव के दौरान फिल्म का आनंद लेते बच्चे
  Start Date: 23 Apr 2019
  End Date: 23 Apr 2019
  Location: नोएडा

अमर उजाला फाउंडेशन व बाल चित्र समिति के संयुक्त तत्वावधान में मंगलवार, 23 अप्रैल, 2019 को नोएडा के सेक्टर-48, सी-ब्लॉक स्थित फाउंडेशन स्टेप स्कूल में बाल फिल्म महोत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान बच्चों को ‘कुत्ते की कहानी’ नामक बाल फिल्म दिखाई गई। फिल्म देखकर बच्चों ने संस्कार सहित जीवन में कुछ अलग करने की सीख हासिल की। बाल फिल्म का मुख्य किरदार अपने चरित्र से बच्चों के मन में बसे कुत्तों के प्रति प्रेम को जागृत करता है।

फिल्म में राजू का किरदार नन्हें बच्चों को काफी पसंद आया। फिल्म एक रूढ़िवादी ब्राह्मण परिवार पर केंद्रित है। फिल्म में बच्चों ने देखा कि किस तरह वफादार मोती न केवल राजू की तालाब में डूबने से जान बचाता है, बल्कि चोर को पकड़वाने में भी मदद करता है। फिल्म देखकर शिक्षकों ने कहा कि ऐसी फिल्में बच्चों को नई सीख देतीं हैं, जिससे बच्चे जीवन में आगे बढ़ सकते हैं। साथ ही सीख बच्चों को शिक्षित व संस्कारवान भी बनाती है। इस दौरान करीब 100 से अधिक छात्र-छात्राओं ने फिल्म का आनंद लिया। अमर उजाला परिवार की तरफ से बच्चों को बाल फिल्मों का महत्व बताते हुए उद्देश्य बताया गया। बच्चों को बताया कि सिर्फ किताबी शिक्षा तक ही सीमित नहीं रहना चाहिए, सामाजिक शिक्षा भी बहुत जरूरी है।

विद्यार्थियों ने व्यक्त कीं प्रतिक्रियाएं
> बहुत मजा आया। इस तरह की फिल्म पहली बार देखी है। कुत्ते बहुत बफादार होते हैं। इन्हें प्यार देना चाहिए। - हर्ष
> जानवरों के साथ प्यार से पेश आना चाहिए। बच्चे इस बात को समझते हैं, लेकिन बड़े नहीं समझते। फिल्म से यही ज्ञान मिलता है। - परी
> अगर हम जानवरों को प्यार करते हैं तो वे हमारी रक्षा करते हैं। अब से हम भी बेजुबानों को और अधिक प्यार करेंगे। - राधिका
> हम किसी जानवर को नहीं छेडे़ंगे तो वह हमारा नुकसान नहीं करते। हमें जानवरों को भी प्यार करना चाहिए। - वृंदा

बहुत अच्छी फिल्म थी। बच्चों ने बहुत मनोरंजन किया। हम भी बचपन में पहुंच गए। फिल्म के माध्यम से बच्चों को बहुत अच्छी शिक्षा मिली कि कुत्ते कितने वफादार होते हैं। शिक्षा के साथ नैतिक शिक्षा भी जरूरी है। इस तरह की फिल्म दिखाने के लिए अमर उजाला फाउंडेशन का बहुत-बहुत आभार। - सुनीता खटाना, अध्यक्ष, फाउंडेशन स्टेप स्कूल
 

Share:

Related Articles: