गाजियाबाद के राम किशन इंस्टीट्यूट में आयोजित पुलिस की पाठशाला को संबोधित करते एसपी देहात नीरज कुमार जौदान
  Start Date: 19 Apr 2019
  End Date: 19 Apr 2019
  Location: गाजियाबाद

अमर उजाला फाउंडेशन की ओर से ‘अपराजिता’ 100 मिलियन स्माइल्स मुहिम के तहत शुक्रवार, 19 अप्रैल, 2019 को गाजियाबाद के संजय नगर, सेक्टर-23 स्थित राम किशन इंस्टीट्यूट (आरकेआई) में पुलिस की पाठशाला का आयोजन किया गया। पाठशाला में छात्रों को संबोधित करते हुए एसपी देहात नीरज कुमार जौदान ने कहा छात्राएं आत्मनिर्भर बनें। बेखौफ होकर बाहर निकले। छेड़छाड़ जैसी घटनाओं का मुंहतोड़ जवाब दें। खुद सुरक्षित रहें और अन्य लोगों को भी सुरक्षा दें।

एसपी देहात ने साइबर क्राइम से लेकर छेड़छाड़ और दुष्कर्म की घटनाओं से बचाव के लिए छात्र-छात्राओं को कई महत्वपूर्ण टिप्स दिए। एसपी ने कहा कि अगर महिलाएं 100 व 1090 हेल्पलाइन नंबर का जरूरत पड़ते ही तुरंत इस्तेमाल करें तो 50 प्रतिशत तक वारदातों को कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पुलिस जनता की सेवा के लिए है। अगर कभी कोई मुसीबत हो, छात्राओं के साथ छेड़छाड़ हो रही हो, कहीं कोई क्राइम हो तुरंत 100 नंबर पर फोन करें। 15 मिनट के अंदर पुलिस मौके पर पहुंचेगी।

गाजियाबाद में 100 नंबर की 57 गाड़ियां हैं। वह अपने निर्धारित प्वाइंट पर गश्त करती हैं। यह पुलिस की फार्स्ट सेवा है। अगर आपके साथ कोई घटना होती है और पुलिस एफआईआर दर्ज करने में आनाकानी करती है तो आप सुप्रीम कोर्ट का ‘ललिता जजमेंट’ उसे बताए। इंटरनेट पर जजमेंट के बारे में विस्तार से बताया गया है। जजमेंट की बात सुनकर पुलिस अधिकारी तुरंत कार्रवाई करेंगे।

उन्हाेंने बताया कि महिलाओं के लिए कानून में विशेष सुविधाएं हैं। मसलन पुलिस कभी भी किसी महिला या नाबालिग को बयान के लिए थाने नहीं बुला सकती है। महिला की गिरफ्तारी सूर्यास्त के बाद नहीं हो सकती है। वुमन हेल्पलाइन नंबर- 1090 पर भी त्वरित कार्रवाई होती है। छात्राएं सुरक्षा के लिए अपने साथ सीटी और लाल मिर्च पाउडर जरूर रखें। कोई परेशान करे तो तुरंत सीटी बजाएं। इससे बदमाश घबराकर भाग जाएंगे। घर या स्कूल में कोई छेड़छाड़ करें तो इसकी शिकायत अपने टीचर या पैरेंट्स को बताए। पुलिस अपने स्तर से कार्रवाई करेगी। 

सोशल साइट्स पर शेयर न करें पर्सनल जानकारी

कार्यक्रम में एसपी देहात ने कहा सोशल साइट्स पर अपनी पर्सनल बातें कभी शेयर न करें। अपनी ई-मेल आईडी, फोन नंबर, बैंक अकाउंट डिटेल, आधार कार्ड नंबर, पर्सनल वीडियो फेसबुक या व्हाट्सअप पर शेयर न करें। कोई भी कंपनी फ्री में कोई सुविधा नहीं देती है। अगर कोई आपका पर्सनल डाटा फेसबुक या अन्य सोशल साइट्स पर डालता है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कराएं।

छात्र-छात्राओं ने पूछे सवाल

पुलिस की पाठशाला में छात्राओं ने आईपीएस नीरज कुमार से बेझिझक होकर कई सवाल पूछे। छात्रा चंचल ने 100 नंबर सेवा के बारे में अपने अनुभव को बताया। शिवानी ने पूछा के कोचिंग पढ़ने जाते हैं तो कुछ लड़के फॉलो करते हैं। घर में बताएं तो परिजन कोचिंग छुड़वा देंगे। ऐसे में क्या करें। दीपाली ने पूछा कि मार्केट जाती हैं कुछ लोग पीछा करें और उस वक्त मोबाइल फोन भी न हो तब क्या करें। अभिभावक अनीता चौधरी ने देर रात बजने वाले डीजे की शिकायत की। इनके जवाब में एसपी नीरज देहात ने बताया कि इन सभी समस्याओं का समाधान 100 नंबर है। डायल करें। कोई परेशान करे तो अपने पैरेंट्स को जरूर बताएं। एफआईआर दर्ज कराएं, कार्रवाई जरूर होगी।

छात्र-छात्राओं ने सीखा

- पुलिस की पाठशाला को लेकर काफी उत्साह रहा। बहुत कुछ सीखने को मिला है, जिससे फायदा ही होगा। तनु त्यागी

- सेल्फ डिफेंस के बारे में जानते थे, लेकिन पुलिस किस तरह हेल्प कर सकती है यह पहली बार जाना है। प्रेक्षी सक्सेना

- सोसायटी में बहुत सी घटनाएं होती हैं, जिसकी तरफ हमारा ध्यान नहीं जाता। हम सजग बनेंगे तभी और लोगों को भी जागरूक कर सकेंगे। इशिका त्यागी

- पुलिसिंग व्यवस्था के बारे में पहली बार जाना है। पुलिस कैसे काम करती है, हमारे क्या अधिकार है। इसकी जानकारी पुलिस की पाठशाला में मिली है। मिसबाह जैनब

- सोशल साइट्स को लेकर नई जानकारी मिली है। बहुत कम लोगों को पता होगा कि इन साइट्स पर अपनी पर्सनल डिटेल नहीं डालनी चाहिए। भूमिका शर्मा

- कोई भी गलत हरकत करेगा या छेड़छाड़ करने की कोशिश करेगा तो अब ये पता है कि हमें शिकायत कहां करनी है। अदिति

- चेकिंग के नाम पर कुछ पुलिसकर्मी अब परेशान नहीं कर पाएंगे। पाठशाला में जाना कि अगर चालान कटेगा तो वह कहां जमा होगा। पीयूष चंदेल

Share:

Related Articles: