एक अनोखी क्लास – पुलिस की पाठशाला

25 मार्च को नोएडा में एक अनोखी क्लास हुई। अध्यापक बने नोएडा के एक सी.ओ. साहब, और विद्यार्थी थे सरस्वती बाल मंदिर इंटर कॉलेज की छात्राएँ।

 

स्कूल आने-जाने के दौरान, गली मोहल्ले, आस-पड़ोस और कभी-कभी परिवार व रिश्तेदारी में भी लड़कियां छींटाकशी और छेड़छाड़ का शिकार हो जाती हैं। संकोच के कारण लड़कियां इन सबको सहन करती रहती हैं। इससे मनचलों का हौसला बढ़ता है और वे बड़ी वारदात कर जाते हैं। छींटाकशी और छेड़छाड़ को सहन करने के बजाय लड़कियों को नि:संकोच इसकी शिकायत अभिभावक, अध्यापक या पुलिस सेे करनी चाहिए, जिससे समय रहते आरोपियों पर कड़ी कार्रवाई की जा सके। ये विचार सीओ जेवर दिलीप सिंह नेे अमर उजाला की ओर सेे आयोजित ‘पुलिस की पाठशाला’ में शुक्रवार को रबूपुरा स्थित सरस्वती बाल मंदिर इंटर कॉलेज में विद्यार्थियों के बीच व्यक्त किए।

नोएडा के सीओ दिलीप सिंह ने विद्यार्थियों से कहा कि सरकार व पुलिस-प्रशासन महिलाओं के सम्मान और सुरक्षा के लिए 24 घंटे प्रयासरत है। बच्चों को किसी भी उत्पीड़न को बर्दाश्त नहीं करना चाहिए। जितनी जल्दी हो सके इसकी शिकायत माता-पिता या अन्य अभिभावक से करें। कॉलेज के अध्यापक-अध्यापिका को भी इसकी सूचना दे सकते हैं। अगर सीधे पुलिस को सूचना देना चाहें, तो 1090 पर कॉल कर सकते हैं। उत्पीड़न और छेड़छाड़ सहन करने से ये और बढ़ता है। इसलिए शिकायत करने में जरा भी संकोच न करें। हालांकि कभी भी झूठी शिकायत न करें।

रबूपुरा कोतवाली प्रभारी शाहवेज खान ने बताया कि सरकार के आदेश पर जिले भर के थानों में एंटी रोमियो दल का गठन किया गया है। यह दल महिलाओं और छात्राओं की सुरक्षा के लिए गठित किया गया है। घर, परिवार या रिश्तेदारी में जाने के दौरान भी उन्हें कोई गलत गतिविधि महसूस हो, तब भी वे इसकी शिकायत परिजन, अध्यापक या पुलिस सेे कर सकती हैं। उन्होंने अपना सीयूजी मोबाइल नंबर भी विद्यार्थियों को देते हुए कहा कि वे कभी भी कॉल कर कोई भी शिकायत कर सकते हैं। उनकी शिकायत पर पुलिस तुरंत कार्रवाई करेगी। कॉलेज प्रबंध समिति के उपाध्यक्ष किशललाल पाराशर, कोषाध्यक्ष चंद्रप्रकाश जैन, प्रधानाचार्य पूरनदत्त शर्मा, मोहन लाल गर्ग ने भी विचार व्यक्त किए। प्रबंधन अधिकारियों ने ‘अमर उजाला’ के प्रयास की सराहना की और पुलिस अधिकारियों का आभार प्रकट किया।

—-

क्या नाबालिग की शिकायत भी कर सकते हैं?

पुलिस अधिकारियों के विचार व्यक्त करने के बाद छात्राओं ने उनसे सवाल पूछे। कक्षा 6 की छात्रा पायल चौधरी ने सवाल किया कि अगर कोई नाबालिग उन्हें परेशान करे, तो उसकी शिकायत पुलिस से कर सकते हैं? इस पर सीओ दिलीप सिंह ने कहा कि कम आयु यानी नाबालिग आरोपियों पर कार्रवाई के लिए भी कानून है। शिकायत मिलने पर उन्हें जेल भेजने की बजाय बाल सुधार गृह भेजा जाता है। कक्षा 7 की छात्रा इरम कुरैशी ने पूछा कि अगर कोई मोबाइल पर कॉल, मैसेज कर या फिर फेसबुक आदि पर परेशान करे, तो क्या तब भी पुलिस कार्रवाई करेगी? कक्षा 12 की छात्रा सोनिका ने कहा कि अगर कोई रास्ते में परेशान करे, तो हम क्या करें। कक्षा 8 की छात्रा प्राची गर्ग ने पूछा कि ऐसी कोई योजना है, जिसमें छात्राओं को सुरक्षा मिले। इन सवालों के जवाब में शाहवेज खान ने बताया कि प्रदेश सरकार के आदेश पर सभी थानों में एंटी रोमियो दल का गठन महिला व छात्राओं की सुरक्षा के लिए किया गया है। 1090 महिला हेल्पलाइन ऐसी ही शिकायतों पर कार्रवाई के लिए है। रास्ते में कोई परेशान करता है, तो 1090 पर कॉल करें, तुरंत कार्रवाई होगी। मोबाइल और सोशल साइट्स पर परेेशान करने वालों पर भी पुलिस कार्रवाई करती है।

 

सीओ जेवर और रबूपुरा कोतवाली प्रभारी ने छात्राओं को दिए सुरक्षा के टिप्स

 

25 मार्च 2017 को प्रकाशित